राजभवन और सरकार के बीच टकराव जारी : राजभवन ने विशेष सत्र की फाइल वापस लौटाई…पूछा… ऐसी कौन सी परिस्थिति है कि विशेष सत्र बुलाया जाए

webmorcha.com
राज्यपाल अनुसुइया उइके

रायपुर: 20 अक्टूबर 2020। राजभवन और सरकार के बीच टकराव जारी है। राजभवन ने विशेष सत्र बुलाई जाने वाली फाइल वापस लौटा दी है। प्रदेश सरकार ने दो दिन पहले राजभवन को दो दिन के विशेष सत्र बुलाने की फाइल भेजी थी। सोमवार को इस मामले में संसदीय कार्यमंत्री रविंद्र चौबे का कथन भी सामने आया था, जिसमें उन्होंने मीडिया से कहा था कि विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया जाएगा, जिसके लिए फाइल राजभवन को भेजी गई है। हालांकि किसानों के लिए अलग कानून बनाने के लिए विशेष सत्र बुलाने का फैसला बीते कैबिनेट की बैठक में ही हो चुका था।

मंगलवार को खबर ये आ रही है कि राज्यपाल अनुसूईया उईके ने विशेष सत्र की फाइल वापस कर दी है। राजभवन ने अपनी टीप में लिखा है “ऐसी कौन सी परिस्थिति है कि विशेष सत्र बुलाया जाए, 58 दिन पहले ही विधानसभा का सत्र बैठक किया गया था”

यहां पढ़ें: छत्तीसगढ़ में सरकार और राज्यपाल के बीच तनातनी, राजभवन में तैनात अफसरों के ट्रांसफर पर राज्यपाल ने जताई आपत्ति, CM को लेटर लिखकर कहा- पहले सहमति लेना चाहिए

बीते 14 अक्टूबर के बाद से लगातार राजभवन और प्रदेश सरकार के बीच टकराव की स्थिति बनी है। 14 अक्टूबर को गृह विभाग की उस बैठक के स्थगित होने से शुरू हुई थी, जो राजभवन में आयोजित किया जाना था। इस बैठक में गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू को शामिल होना था, लेकिन उन्होंने खुद को क्वारंटीन बताते हुए बैठक स्थगित करा दी। लेकिन उसी दिन दोपहर में सीएम की बुलाई गृह विभाग की बैठक में वे शामिल हुए थे।

ये तनातनी अब तूल पकड़ता जा रहा है। राज्यपाल के सचिव सोनमणि बोरा को प्रदेश सरकार ने हटा दिया, इसके बाद राज्यपाल ने पत्र लिखा था। पूर्णकालिक सचिव के साथ-साथ उन्होंने नियुक्ति में राय नहीं लेने की बात तक कही थी। विवाद के बीच 15 अक्टूबर को नये सचिव अमृत खलको जब ज्वाइनिंग के लिए राजभवन पहुंचे तो उन्हें ज्वाइनिंग से रोक दिया गया। विवाद के बीच 15 अक्टूबर को सीएम और गृहमंत्री का कथन भी आया और सभी ने टकराव की बात को सिरे से खारिज भी कर चुके हैं। 15 अक्टूबर को ही मंत्री रविंद्र चौबे और मोहम्मद अकबर ने राज्यपाल से मुलाकात की और टकराव जैसी कोई भी बात से इंकार किया था।

यहां पढ़ें: बड़ी खबर : प्रदेश सरकार और राजभवन के बीच टकराव की स्थिति, नगर पंचायतों को फिर से ग्राम पंचायत बनाने का मामला

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here