दिलीप कौशिक के कांग्रेस प्रवेश के साथ अटकले तेज, क्या महासमुंद से हो सकते हैं प्रत्याशी

रायपुर। राहुल गांधी से दिलीप कौशिक की मुलाकात के बाद अब अटकले तेज हो गई है। शुक्रवार को रायपुर एयरपोर्ट में दिलीप कौशिक की राहुल गांधी से मुलाकात हुई है। लंबे समय से दिलीप कौशिक कांग्रेस में शामिल होने की संभावना जताई जा रही थी। लेकिन उन अटकलों पर विराम लग गया। दिलीप कौशिक लंबे समय से राजनीतिक ब्रेक के बाद पिछले कुछ सालों से राजनीति में काफी सक्रिय हुए थे। दिलीप कौशिक 1993 में भूपेश बघेल के खिलाफ चुनाव लड़े थे, लेकिन उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा था।

यहां पढ़ें : http://कार्यकर्ताओं का दावा- डॉ. विमल को टिकट देना भाजपा के लिए रहेगा फायदे का सौदा

बतादें कि दिलीप कौशिक पूर्व केंद्रीय मंत्री पुरुषोत्तम लाल कौशिक के बेटे हैं।  ढ़ाई दशक के बाद वो राजनीति में फिर से वापस लौटें हैं। लिहाजा उनके कांग्रेस में शामिल होने को लेकर कई राजनीतिक मायने निकाले जा रहे हैं। पुरुषोत्तमलाल कौशिक का महासमुंद में व्यापक जनाधार रहा है, बीते साल ही वो दिवंगत हुए थे, जिसके बाद दिलीप कौशिक ने फिर से राजनीति में कदम बढ़ाया है।

खास बात ये है कि जब भूपेश बघेल सन् 1993 अपना पहला विधानसभा चुनाव लड़ा था तब उनके खिलाफ देश के प्रख्यात समाजवादी नेता रहे पुरुषोत्तम कौशिक के सुपुत्र दिलीप कौशिक चुनाव लड़े थे. लेकिन बघेल से चुनाव हार गए थे. हालांकि उस समय चुनाव के बाद परिवारवाद के आरोप के चलते सक्रिय राजनीति से दिलीप कौशिक अलग हो गए थे.

http://चेकिंग के दौरान सवा 14 लाख रुपए बरामद, बलौदा और सिंघोड़ा पुलिस की कार्रवाई

अब अपने पिता पूर्व केन्द्रीय मंत्री पुरूषोत्तमलाल कौशिक के निधन के बाद क्षेत्रवासियों की पहल पर एक बार फिर दिलीप कौशिक सक्रिय राजनीति में आ गए हैं. देखना है कि 26 साल बाद बदली हुई परिस्थिति में दिलीप कौशिक का नया राजनीतिक सफर कैसा रहने वाला है. वैसे उन्हें महासमुंद लोकसभा सीट से मजबूत दावेदार बताया जा रहा है. मतलब वे कांग्रेस की टिकट पर चुनाव भी लड़ सकते हैं.

जुडिए हमसे…

https://www.facebook.com/webmorcha/
https://twitter.com/
www.webmorcha.com
https://www.youtube.com
https://www.instagram.com/webmorcha

https://plus.google.com/people

whatsapp 9617341438

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *