किसान कर्ज लिया ही नहीं, उनके नाम पर कर्ज, अब भूपेश सरकार ऐसे किसानों के 4 हजार करोड़ करेगी माफ

दिलीप शर्मा

छत्तीसगढ़. महासमुंद। कांग्रेस की भूपेश सरकार किसानों की आर्थिक स्थिति मजबूत करने अल्पकालिन ऋण माफ करने जा रही है। सहकारी बैंक के अलावा अन्य बैंकों में करीब 4 हजार करोड़ किसानों के नाम पर ऋण है। लेकिन विडबंना कि ऐसे सैंकड़ों किसान हैं, जिनके नाम पर फर्जी दस्तावेज तैयार कर लोन निकाल ली गई जिसकी जानकारी किसानों को ही नहीं है। करोड़ों के हुए इस फर्जीवाड़ा में किसानों को तो कुछ नहीं मिला। लेकिन अब सरकारी खजाने का भार गड़बड़झाला के झोली में जाने वाली है। फर्जी लोन की सैकड़ों शिकायत थाने सहित संबधित विभाग के पास मौजूद है, लेकिन मिलीभगत के चलते फर्जी ऋण प्रकरण का मामला ठंडे बस्ते में चला गया।

महासमुंद जिले के अकेले बागबाहरा ब्लॉक की बात करें तो यहां करोड़ों रुपए का फर्जी ऋण प्रकरण बनाकर दलालों ने डकार ली। भूपेश सरकार की पहल से कई किसानों को लाभ मिलेगा, लेकिन जो लोन लिया ही नहीं उनके नाम पर ऋण माफी करने की कवायद देखने योग्य रहेगी।

इन उदाहरणों के साथ जानिए : बैंक और किसान का नाम जिन्होंने पहले तो सहकारी समिति से कर्ज लिया, बाद इन्हें वहां डिफाल्टर कर दी गई, इसके बाद सहकारी बैंक में जमा किसानों का दस्तावेज अन्य बैंकों फर्जीवाड़ों ने दस्तावेज प्रस्तुत कर लोन निकाल लिया, जिसकी जानकारी किसानों को हुई तक नहीं है।

ये सभी किसान बागबाहरा ब्लाक के कसेकेरा सोसायटी के सदस्य हैं, जिन्हें कालातीत (डिफाल्टर किया गया है) अब इनके नाम पर दूसरे बैंकों में कर्ज लिया गया है। ऐसे स्थिति में एक ही किसान का दो-दो जगहों पर फर्जी ऋण प्रकरण तैयार की गई है।

  • तमेशर पिता गुलधर रावत, द्वारतरा पंजाब नेशनल बैंक खम्हिरया, कैनरा बैंक बागबाहरा
  • आत्मा पिता चैतु यादव, द्वारतरा ओरियंटल बैंक ऑफ कामर्स,
  • पीलाराम पिता विशाल यादव, द्वारतरा पंजाब नेशनल बैंक खम्हरिया
  • लोभंराम पिता कलीराम बिझवार, भलेसर, बैंक ऑफ महाराष्ट्रा महासमुंद
  • मनधर पिता रतन गोड़ पलसीपानी, पंजाब नेशनल बैंक खम्हरिया, बैंक ऑफ महाराष्ट्रा
  • सुखराम पिता समारू बिझवार, भलेसर, बैंक ऑफ महाराष्ट्रा महासमुंद
  • फंदी/ भोरो गोड पलसीपानी पंजाब नेशनल बैंक खम्हरिया, बैंक ऑफ महाराष्ट्रा
  • महेश पिता कुनकु गोड पलसीपानी, पंजाब नेशनल बैंक खम्हरिया,
  • धनीराम पिता नैनसिंग गोड द्वारतरा कला, कैनरा बैंक बागबाहरा,
  • श्यामलाल पिता समारू गोड द्वारतरा खुर्द बैंक ऑफ महाराष्ट्रा महासमुंद
  • पानसिंग पिता पुरउ पिता द्वारतरा कला बैंक ऑफ महाराष्ट्रा
  • गांडा माझी पिता दशरथ गोड पलसीपानी पंजाब नेशनल बैँक महासमुंद, बैंक ऑफ महाराष्ट्रा महासमुंद

किसानों की आर्थिक स्थिति मजबूत करने 8 फरवरी को भूपेश सरकार ने अपने बजट में ऐसे कहा है…

किसानों को कर्ज के बोझ से मुक्त करने हेतु ग्रामीण बैंक एवं सहकारी बैंक के साथ-साथ सार्वजनिक क्षेत्र के व्यवसायिक बैंकों द्वारा बांटे गए करीब 4 हजार करोड़ के अल्पकालिन कृषि ऋण माफ किए जाएंगे। अब तक लगभग 10 हजार करोड़ के अल्पकालिन कृषि ऋण की माफी के लिए बजट में 5 हजार करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है।

ऋण माफी का नाम हो सार्वजनिक

कोमाखान क्षेत्र के भाजपा नेता भुखन सिन्हा ने बताया कि अकेले बागबाहरा ब्लॉक में 100 करोड़ रुपए से अधिक फर्जी ऋण प्रकरण बनाई गई है। बैंक कर्मचारियों और दलालों की मिलीभगत से डिफाल्टर किसानों के नाम पर अन्य बैंकों में फर्जी दस्तावेज जमा कर राशि हड़पी गई है, अब ऐसे में बिना जांच ही ऋण माफी योजना के तहत ऋण बांटने की तैयारी सरकारी खजाना के साथ खिलवाड़ है। सरकार ऋण माफी के पहले उन किसानों का नाम सार्वजनिक करें जिससे उन किसानों को पता चल सकें कि कहां कितना उनके नाम पर फर्जी लोन स्वीकृत की गई है।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *