13 मार्च से शुरू हो रहा होली का पर्व, 8 दिन तक शुभ कार्यो पर लग जाएगा ब्रेक

इस साल 21 मार्च को होली है। होली तिथि की गिनती होलाष्टक के आधार पर की जाती है। फाल्गुन शुक्ल पक्ष की अष्टमी से लेकर आठवें दिन अर्थात होलिका दहन तक होलाष्टक रहता है। पुराणों के आधार पर होलाष्टक के आठ दिनों तक कोई भी शुभ कार्य नहीं किए जाते। होलाष्टक के दौरान शुभकार्य करने पर अशुभ होने अथवा बनते कार्य के बिगड़ जाने की संभावना रहती है। इसलिए इस दौरान शुभ कार्यों को टालना ही समझदारी है। इस बार होलाष्टक 13 मार्च यानी बुधवार से शुरू हो रही है।

http://इन 5 तरीकों से आपकी सुबह बन सकती है ताजातरीन और बेहतरीन

जानिए क्या है होलाष्टक…

होलाष्टक होली के पूर्व के आठ दिनपहले लगता हैं, जिसे होलाष्टक कहते हैं। धर्मशास्त्रों में वर्णित 16 संस्कार जैसे- गर्भाधान, विवाह, पुंसवन, नामकरण, चूड़ाकरण, विद्यारंभ, गृह प्रवेश, गृह निर्माण, गृह शांति, हवन-यज्ञ कर्म आदि नहीं किए जाते। इन दिनों शुरु किए गए कार्यों से कष्ट की प्राप्ति होती है। इन दिनों हुए विवाह से रिश्तों में अस्थिरता आजीवन बनी रहती है अथवा टूट जाती है. घर में नकारात्मकता, अशांति, दुःख एवं क्लेष का वातावरण रहता है।

होलाष्टक की ऐसी है परंपरा

जिस दिन से होलाष्टक प्रारंभ होता है, गली मोहल्लों के चौराहों पर जहां-जहां परंपरा स्वरूप होलिका दहन मनाया जाता है, उस जगह पर गंगाजल का छिड़काव कर प्रतीक स्वरूप दो डंडों को स्थापित किया जाता है। एक डंडा होलिका का एवं दूसरा भक्त प्रह्लाद का माना जाता है। इसके पश्चात यहां सूखी लकड़ियां और उपले लगाए जाने लगते हैं। जिन्हें होली के दिन जलाया जाता है, जिसे होलिका दहन कहा जाता है।

यहां पढ़ें : http://नहाने में खर्च करती है ये महिला करोड़ों रूपए, खूबसूरती के लिए पानी में मिलाती ये खास चीज

क्यों होते हैं ये अशुभ दिन यह भी जानिए

शास्त्रों के अनुसार होलाष्टक के प्रथम दिन यानी फाल्गुन शुक्लपक्ष की अष्टमी को चंद्रमा, नवमी को सूर्य, दशमी को शनि, एकादशी को शुक्र, द्वादशी को गुरु, त्रयोदशी को बुध, चतुर्दशी को मंगल तथा पूर्णिमा को राहु का उग्र रूप रहता है। इस वजह से इन आठों दिन मानव मस्तिष्क तमाम विकारों, शंकाओं और दुविधाओं आदि से घिरा रहता है, जिसकी वजह से शुरु किए गए कार्य के बनने के बजाय बिगड़ने की संभावना ज्यादा रहती है। चैत्र कृष्ण प्रतिपदा को इन आठों ग्रहों की नकारात्मक शक्तियों के कमजोर होने की खुशी में लोग अबीर-गुलाल आदि छिड़ककर खुशियां मनाते हैं। जिसे होली कहते हैं।

जुडिए हमसे…

https://www.facebook.com/webmorcha/
https://twitter.com/
www.webmorcha.com
https://www.youtube.com
https://www.instagram.com/webmorcha

https://plus.google.com/people

whatsapp 9617341438

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *