अश्विनी नक्षत्र में होगा पूर्णिमा चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, आ अक्षर नाम वालों को मिलेगा बेहद फायदा

webmorcha.com
शरद पूर्णिमा 30 अक्टूबर 2020 

Sharad Purnima 2020 : शरद पूर्णिमा का पर्व 30 अक्टूबर को आज है। इस रात चंद्रमा पृथ्वी के सबसे नजदीक रहेगा। अश्वनी मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा का पर्व मनाया जाता है। इसे रास पूर्णिमा भी कहते हैं।

30 अक्टूबर को शरद पूर्णिमा के दिन संयोग से मध्यरात्रि में अश्विनी नक्षत्र रहेगा, 27 योग के अंतर्गत आने वाला योग विशिष्टकरण तथा चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, आ मेष राशि का चंद्रमा रहने से आयु व आरोग्य में जातकों को श्रेष्ठ लाभ मिलेगा। इस दिन अगस्त तारे के उदय और चंद्रमा की सोलह कलाओं की शीतलता का संजोग भी जातकों को देखने को मिलेगा।

यहां पढ़ें अश्विनी नक्षत्र के जातक… अपने भविष्यफल

संपूर्ण वर्ष में केवल इसी दिन चंद्रमा 16 कलाओं से युक्त होता है। भगवान श्री कृष्ण ने जगत की भलाई के लिए रास उत्सव करने इसी तिथि का निर्धारण किया था। इसी दिन से कार्तिक स्नान प्रारंभ होता है। इस रात्रि में चंद्रमा की किरणों से सुधा बरसती है। धार्मिक मान्यता के अनुसार इस रात्रि में भ्रमण करना और चंद्र किरणों का शरीर पर पड़ना बहुत शुभ माना जाता है। धर्म अध्यात्म व आयुर्वेद की दृष्टि से यह दिन विशेष माना गया है। शरद पूर्णिमा की मध्य रात्रि में चंद्रमा की रोशनी में केसरिया दूध व खीर रखकर खाने की परंपरा है। धार्मिक मान्यता है कि इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है तथा मनुष्य वर्षभर निरोगी रहता है।

हमसे जुड़िए

https://twitter.com/home

https://www.facebook.com/?ref=tn_tnmn

https://www.facebook.com/webmorcha/?ref=bookmarks

https://webmorcha.com/

https://webmorcha.com/category/my-village-my-city/

9617341438, 7879592500,  7804033123

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here