ढलती शाम से बिखरती चाॅदनी तक खट्टा के बच्चों ने दी मनमोहक प्रस्तुति

महासमुंद. ग्राम खट्टा के विद्यालय प्रांगण में विद्यालय वार्षिकोत्सव व स्नेह सम्मलेन का आयोजन किया गया। जिसमें प्राथमिक व उच्च प्राथमिक व हाईस्कूल के बच्चों की रोचक प्रस्तुति ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया संध्या से लेकर देर रात तक चले इस कार्यक्रम की ग्रामीणों ने बेहद प्रसंशा की है।

कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ की संस्कृति आधारित सुआ नृत्य, राऊत नाचा, गौरा गीत तथा सामाजिक बुराईयों के दुष्परिणामों  की चेतावनी देते हुए उनका त्याग करने की प्रेरणा सहित कुल 40 कार्यक्रम प्रस्तुत किये गए जो नृत्य, प्रहसन व रिमिक्स आदि के रूप में शामिल हुए| कार्यक्रम के अंत में शिक्षकों द्वारा भी एक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया जो काफी रोचक रहा।

कार्यक्रम के आरम्भ में मुख्य अतिथि सरपंच दिशा दीवान, अध्यक्ष प्रभारी प्राचार्य रामकुमार जोगी तथा अतिथियों के रूप में उपस्थित हायर सेकण्डरी स्कूल पटेवा के प्राचार्य समीर चन्द्र प्रधान, सहकारी समिति पटेवा के उपाध्यक्ष रामस्वरूप दीवान, ग्रामीण रविशंकर पैकरा, थनवार यदु आदि ने सरस्वती पूजन कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया।

मुख्य अतिथि श्रीमती दीवान ने कहा कि कोई भी अच्छा कार्य तभी संभव होता है जब उसके पीछे सोच अच्छी होती है, यहाँ पदस्थ शिक्षकों की बेहतर सोच के कारण ही प्रतिवर्ष बच्चों के उत्साहवर्धन के लिए ऐसे कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं जिसके परिणामस्वरूप बच्चों में साल भर के लिए नई ऊर्जा का संचार होता है और वे लगन के साथ पढ़ाई को अंजाम देते हैं।

अतिथि के रूप में उपस्थित श्री प्रधान ने अपने उद्बोधन में कहा कि ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन तभी संभव होता है जब ग्रामीण और शिक्षक विद्यालय के विकास के लिए मिल बैठकर सोचते हैं और काम करते हैं उन्होंने इस कार्यक्रम के लिए जनप्रतिनिधियों, ग्रामीणों, शिक्षकों व बच्चों की सराहना की, कार्यक्रम को रविशंकर पैकरा तथा रामकुमार जोगी ने भी संबोधित किया। शराब निरोधक दल, गुलाबी गैंग की अध्यक्षा मानबाई बघेल ने उपस्थित अतिथियों का आभार व्यक्त किया।

कार्यक्रम का संचालन शिक्षक ओम नारायण शर्मा तथा गुलेश साहू ने किया कार्यक्रम को सफल बनाने में शिक्षक फिरेन्द्र कुमार पटेल, तरूण कहार, राजेश निर्मलकर, लखन लाल साहू, मनी पटेल सहित ग्रामीण रामशरण दीवान, सगरी बाई यादव, तामेश्वरी सेन, महेश्वरी दीवान, चैनू राम दीवान, हठीयारिन दीवान, गायत्री दीवान, राजेश्वरी निषाद, पद्मा निषाद, महेरुन्निशा, लता बघेल का विशेष योगदान रहा।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *