रायपुर: शराब कारोबारी बेनामी फर्म बनाने का खुलासा ED तीन सीए के दफ्तरों में छापा

webmorcha.com
प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate)

रायपुर: प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) रायपुर की टीम ने शनिवार को शराब कारोबारी सुभाष शर्मा से जुड़े तीन चार्टर्ड एकाउंटेंट्स (Chartered Accountants) के यहां छापामारी की। इन पर आरोप है कि ये सुभाष शर्मा के द्वारा बैंक से लिए गए लोन को बेनामी कंपनियों में निवेश करते रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक, संयुक्त निदेशक नितिन जैनम के नेतृत्व में ED की टीमों ने सुभाष शर्मा से जुड़े स्पेशल ब्लास्ट नामक फर्म के साथ-साथ सीए अमिताभ अग्रवाल, सुनील जौहरी व जोगलेकर के दफ्तरों को घेरा। टीम ने शर्मा (Sharma) से संबद्ध सभी इंट्रियों वाले दस्तावेज और साफ्टवेयर (Software) अपने कब्जे में ले लिए हैं।

यहां पढ़ें: राशिफल: सुपर संडे पर जानिए क्या कहता है आपका राशिफल

सुभाष शर्मा (Subhas Sharma) के खिलाफ ED जनवरी 2020 से जांच कर रहा है। सुभाष पर आरोप है कि उसने साल 2014-15 में कुछ बैंकों से करीब 35 करोड़ रुपए का लोन लिया था जिसे उसने पटाया नहीं और स्वयं को दिवालिया घोषित कर दिया। मामले की जांच के दौरान बैंकों ने पाया कि इन चार्टर्ड एकाउंटेंट्स (Chartered Accountants)ने शर्मा के लिए बेनामी कंपनियां बनाकर लोन की राशि का निवेश किया। इन कंपनियों के गठन में इन तीनों सीए की अहम भूमिका थी।

यहां पढ़ें: छत्तीसगढ़ में फिर टूटा कोरोना का कहर, शनिवार देर रात में 2284 मरीज, रायपुर, कोरबा, रायगढ़ और जांजगीर में कोहराम

यह भी जानकारी दी गई है कि शर्मा ने सर्वाधिक लोन पंजाब नेशनल बैंक (Punjab National Bank) से कई किश्तों में लिया और उसे अपनी इन फर्मों तक पहुंचाया। इनमें से एक CA के बारे में यह बताया जाता है कि वह उद्योगों से जुड़े प्रदूषण के मामलों का निपटारा करते हैं। वे उद्योगों करो पर्यावरण लाइसेंस दिलाने में बड़ी भूमिका रहती है। बहरहाल, जांच जारी है। अब तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया। मालूम हो कि इससे पहले आयकर विभाग ने लाभांडी में शर्मा (Sharma) की अचल संपत्ति सीज की है। शर्मा (Sharma) के रिंग बोर्ड पर बने आलीशान होटल पर भी कुछ साल पहले ताला जड़कर सील कर दिया था। यह Hotel अब भी बंद ही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here